12 घंटे पहले फरीदबाद में था साढू ने उठाये विकास दुबे की गिरफ्तारी पर सवाल

(यूपी) दिवंगत सीओ के साढ़ू कमलाकांत दुबे कहा कि विकास को मौत से बचाया गया है। कमलाकांत ने कहा, “इतने सुनियोजित ढंग से आत्मसमर्पण हो गया।

अभी 12 घंटे पहले वह फरीदाबाद में था। फिर वह महाकाल पहुंच गया। जिस ढंग से उसकी गिरफ्तारी हुई है, क्या नहीं लगता कि उसके सिर पर सरपरस्ती बरकरार है। उसको मौत से बचाया गया है।”

उन्होंने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, “देवेंद्र मिश्रा सहित आठ पुलिस वालों की जो हत्या हुई है, वह अकेले विकास दुबे ने नहीं की है, या उसके गैंग ने नहीं की है। उसके सरपरस्त इन हत्याओं में बराबर के भागीदार थे। जो अब तक उसे बचाते रहे हैं, उन्हीं की सलाह पर विकास दुबे ने सरेंडर किया है। मैं इसे पकड़ना नहीं कहूंगा।

शहीद सीओ के साढ़ू ने कहा, “विकास दुबे का नेटवर्क सक्रिय है, वरना इतने सारे राज्यों की पुलिस अलर्ट रहते हुए, सारे राज्यों की एसटीएफ के एक्शन में रहते हुए भी महाकाल मंदिर में जाकर दर्शन के टिकट कटा रहा था, कहां थे सब लोग?

उन्होंने कहा, “मैं पुलिस वालों पर आरोप नहीं लगा रहा हूं, यह तंत्र पर सवाल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *